ममता के भतीजे अभिषेक ने CBI के बाद अब जूडिशरी पर निशाना साधा

Politics

[ad_1]

तृणमूल कांग्रेस TMC के नेता अभिषेक बनर्जी ने CBI जांच के आदेश को लेकर जूडिशरी पर निशाना साधा। पूर्वी मेदिनीपुर जिले के हल्दिया में एक रैली को संबोधित करते हुए अभिषेक बनर्जी ने कहा कि न्यायपालिका एक छोटा सा हिस्सा गुलाम बन गया है। उन्होंने टीएमसी ने बीजेपी के दो सांसदों को शामिल कर केंद्रीय एजेंसियों के उत्पीड़न का बदला लिया है।
अपने आरोपों को स्पष्ट किए बिना अभिषेक बनर्जी ने कहा, ‘मुझे यह कहते हुए शर्म आती है कि न्यायपालिका में एक-दो ऐसे लोग हैं, जिनकी मिलीभगत है और हर मामले में सीबीआई जांच के आदेश दे रहे हैं। यह न्यायपालिका का सिर्फ एक प्रतिशत है।’
उन्होंने कहा, ‘अगर आप सोचते हैं कि सच बोलने पर मेरे खिलाफ कार्रवाई करेंगे तो मैं हजार बार सच बोलूंगा।’
‘मुझे परेशान करने की कोशिश कर रहे’
कलकत्ता हाई कोर्ट ने पिछले कुछ महीनों में स्कूल सेवा आयोग (एसएससी) के भर्ती प्रक्रिया समेत कई मामलों में सीबीआई जांच के आदेश दिए हैं। अभिषेक बनर्जी ने कहा, ‘हमें धमकाने के लिए सीबीआई और प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) का दुरुपयोग किया जा रहा है। राज्य का अपमान करने के लिए उन्होंने मुझे पश्चिम बंगाल से जुड़े मामलों में दो बार दिल्ली बुलाया था। वे मुझे परेशान करने की कोशिश कर रहे थे। मैंने बीजेपी के दो सांसदों को पार्टी में शामिल कर उन्हें करारा जवाब देने का फैसला किया।’
बैरकपुर के बीजेपी सांसद अर्जुन सिंह पिछले हफ्ते टीएमसी में शामिल हुए, जबकि आसनसोल से सांसद रहे बाबुल सुप्रियो पिछले साल सितंबर में पार्टी में आए थे। डायमंड हार्बर से सांसद अभिषेक ने दावा किया, ‘अगर हम अपने दरवाजे खोलेंगे तो बंगाल में बीजेपी का वजूद खत्म हो जाएगा।’
शुभेंदु अधिकारी पर तंज
नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी का नाम लिए बिना अभिषेक ने निशाना साधा कि उन्होंने सीबीआई और ईडी से खुद को बचाने के लिए मेदिनीपुर की विरासत का ‘सौदा’ किया। अभिषेक ने कहा, ‘एक व्यक्ति था जो सरकार और पार्टी के बीच बाधक बना हुआ था। मैं यहां उस अवरोधक को हटाने आया हूं। ईडी और सीबीआई से खुद को बचाने के लिए उस व्यक्ति ने अपनी आत्मा, विरासत और मेदिनीपुर की भावना को बेच दिया है। वह एक एहसान-फरामोश व्यक्ति है।’
बीजेपी नेताओं के तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने का जिक्र करते हुए अभिषेक ने कहा कि विधानसभा चुनाव से पहले स्थिति अलग थी। अभिषेक बनर्जी ने कहा, ‘लगभग हर दिन, राज्य के विभिन्न हिस्सों के नेता टीएमसी छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गए। हालांकि, नतीजों के बाद तस्वीर बदल गई।’
हल्दिया नगरपालिका चुनाव में किसे मिलेगा टिकट
अभिषेक ने कहा कि टीएमसी हल्दिया नगरपालिका चुनाव में पार्टी से पुराना जुड़ाव रखने वाले नेताओं को मैदान में उतारेगी। बनर्जी ने कहा, ‘जो लोग अन्य पार्टियों से टीएमसी में शामिल हुए हैं, उन्हें हल्दिया नगरपालिका चुनाव में टिकट नहीं मिलेगा। किसी ठेकेदार को टिकट नहीं मिलेगा। पार्टी के लिए वर्षों तक मेहनत करने वालों को ही पुरस्कृत किया जाएगा।’
बीजेपी ने अभिषेक बनर्जी पर पलटवार करते हुए दावा किया कि न्यायपालिका पर उनकी टिप्पणियों ने सत्तारूढ़ पार्टी में उत्पन्न घबराहट को प्रदर्शित किया है। बीजेपी के प्रवक्ता समिक भट्टाचार्य ने कहा, ‘टिप्पणियों से पता चलता है कि टीएमसी नेताओं के मन में न्यायपालिका के लिए कोई सम्मान नहीं है। इससे यह भी पता चलता है कि टीएमसी को डर है कि सीबीआई जांच से सच्चाई सामने आ सकती है।’
-एजेंसियां

[ad_2]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *