हमले को लेकर बोले पंजाब के DGP, हम इसे चैलेंज के रूप में ले रहे हैं

National

[ad_1]

पंजाब में पुलिस के खुफिया विभाग के दफ्तर पर हुए रॉकेट लॉन्चर हमले मे टीएनटी (ट्राइनाइट्रो टोलीन) पदार्थ का प्रयोग हुआ था। यह खुलासा खुद पंजाब के DGP वीके भवरा ने किया है। मोहाली में विभिन्न विंगों के अधिकारियों के साथ खुफिया दफ्तर के बाहर मीडिया से बातचीत करते हुए भवरा ने कहा कि इस हमले को वह चैलेंज के रूप में ले रहे हैं। पुलिस को हमले से जुड़ी कई लीड मिली हैं। जिन पर पुलिस की टीम काम कर रही हैं। उम्मीद है कि जल्दी ही यह केस हल कर लिया जाएगा। इसे आतंकी हमला न मानने के सवाल पर उन्होंने कहा कि मामले की जांच चल रही है, आपको बताया जाएगा कि यह किस तरह का हमला है। DGP करीब ढाई मिनट मीडिया से रूबरू हुए। उन्होंने कहा कि इस मामले को लेकर उन्होंने जिला प्रशासन पुलिस और अन्य टीमों के साथ बैठक की है।
हमले के समय कमरे में कोई नहीं था
डीजीपी ने बताया कि हमलावरों ने रात के समय हमला किया। जिस समय हमला किया गया, उस समय उस कमरे में कोई भी मौजूद नहीं था। पंजाब पुलिस ने हमला होने के बाद कुछ ही घंटों में कई लोगों को राउंडअप किया था। पूछताछ की जा रही है। डीजीपी से जब पूछा गया कि इस मामले में कितने लोगों की गिरफ्तारी हुई है तो उनका कहना था कि जब गिरफ्तारी होगी तो आपको बता दिया जाएगा। अभी पुलिस की टीम में काम कर रही हैं।
मान ने बुलाई अधिकारियों की बैठक
मोहाली में पंजाब पुलिस के खुफिया विभाग के दफ्तर पर अटैक के बाद पूरे पंजाब में हाई अलर्ट है। सीएम भगवंत मान ने सुबह इस मामले में डीजीपी समेत सभी बड़े पुलिस अधिकारियों की एक बैठक बुला ली है। वहीं मामले की जांच के लिए एनआईए की टीम भी मोहाली आ रही है।
चलती कार से किया गया था हमला
मोहाली में पंजाब इंटेलिजेंस के दफ्तर पर सोमवार रात को रॉकेट लांचर से किया गया हमला चलती कार से किया गया था। पुलिस सूत्रों के अनुसार हमला करने वाले स्विफ्ट कार में आए थे और उन्होंने चलती कार से ही इमारत को निशाना बनाया था। यह वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई है। वहीं रॉकेट लांचर से हमले की सूचना के बाद मोहाली ही नहीं, बल्कि ट्राइसिटी के अधिकारी हरकत में आ गए। एसएसपी चंडीगढ़ कुलदीप सिंह चहल, एसएसपी मोहाली विवकेशील सोनी ने मौके पर पहुंचकर सारे तथ्यों की पड़ताल की।
मोहाली पुलिस के मुताबिक सोमवार देर शाम करीब सात बजकर 45 मिनट पर विस्फोट की सूचना मिली। जब यह हमला हुआ उस समय अधिकतर मुलाजिम मुख्यालय से घर निकल गए थे। केवल सुरक्षा में तैनात स्टाफ ही वहां पर तैनात था। पुलिस ने बताया कि रॉकेट नुमा हथियार 25-30 मीटर की दूरी से फेंका गया, जिससे यह सीधे इमारत की खिड़की और शीशे को तोड़ते हुए मुख्यालय के मेज के पास गिरा। हमले के तुरंत बाद सीनियर अधिकारी मौके पर पहुंचे और तत्काल पूरे एरिया को पुलिस ने घेर लिया।
-एजेंसियां

[ad_2]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *