प्रधानमंत्री के उज्ज्वला योजना में खेल , गरीबों के साथ हो रहा है घालमेल

स्थानीय समाचार

उज्वला कनेक्शन हैं मुफ्त लेकिन योजना का पलीता लगा रहे गुप्त

विशाल मौर्य

वाराणसी । प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में उज्ज्वला योजना में घटतौली एवं अवैध रूप से धन उगाही का मामला प्रकाश में आया है, केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी उज्ज्वला योजना जो पांच करोड़ बीपीएल गरीब परिवारों को मुफ्त गैस कनेक्शन देने का दावा करती है, लेकिन इसी योजना से जुड़े गैस एजेंसी संचालक ही इसे बर्बाद करने का काम कर रहे हैं। यह खबर प्रधानमंत्री के संसदीय क्षेत्र वाराणसी‌ से है जहाँ जमीनी हकीकत तो कुछ और ही बयां करती हैं । मुफ्त गैस कनेक्शन के नाम पर गरीबों से पांच सौ रुपये से लेकर आठ सौ रूपए तक वसूले गये तथा बीपीएल कार्डधारकों द्वारा पैसा देने में असमर्थता जताने पर दिए जाने वाले गैस सिलेंडर से भी तीन किलो प्रति सिलेंडर गैस कि कटौती कि गयी जो पैसा देने के लिए तैयार नहीं थे उनको मानसिक रुप से प्रताड़ित किया गया उन्हें बोला गया जो पैसा नहीं देगा उनका गैस कनेक्शन सरकार द्वारा रद्द कर दिया जायेगा । जिसके जिम्मेदार आप खुद होंगे, क्योंकि यह पैसा सरकार के खाते मे जाता हैं ।इस तरह से सरकार के नाम पर एजेंसी संचालक योजनाओ को पलीता लगा रहे हैं ,मोदी जी कि सबसे बडी योजना जिसमें गरीब महिलाओं को धुंए से मुक्ति दिलाने के लिए मुफ्त योजना तैयार कि गयी थी अब उससे जुड़े गैस एजेंसी संचालक इसमें अवैध कमाई का जरिया बना लिए है, जिस परिवार को दिन भर कड़ी धूप मे मेहनत मजदूरी करके दो सौ से तीन सौ मिलते हो वो भला कैसे मुफ्त सिलेंडर का पैसा दे पाएंगे। यह सब कारनामा दीक्षीता इण्डेन गैस एजेंसी काशीपुर गौरा मातलदेई वाराणसी के द्वारा किया गया है, जो कि गरीब परिवारों के साथ एक तरह से अन्याय है ।ज्ञात हो कि यह खेल काफी सालो से चल रहा हैं , एजेंसी से जुड़े, इस साल के जो नये उज्ज्वला कनेक्शन धारक है उन‌ सभी कि संख्या तकरीबन एक हजार से बारह सौ के आसपास हैं और जो पुराने है उन सभी का भी यही कहना है कि उनसे भी पैसे लिए गये अगर इनकी संख्या भी देखा जाय तो लगभग तीन हजार तक हो सकती है प्रधानमंत्री मोदी द्वारा चलाई गयी इस योजना का लक्ष्य था कि 2020 तक आठ करोड़ परिवारों को जोड़कर लाभ पहुंचाने का , लेकिन विभाग की ही साठगांठ से कुछ लोग इसे लूट का जरिया बना लिए है।सभी पीड़ित परिवारों ने बताया कि इस मामले पर हम लोगों द्वारा जब भी आपत्ति दर्ज कराई गई तो एजेंसी संचालक द्वारा चुप करा दिया जाता था और इससे जुड़े अधिकारी भी कुछ बोलने के तैयार नही होते थे । हम लोगों को यह समझ मे नही आ रहा था कि किस सक्षम अधिकारी से इसकी शिकायत दर्ज कराए ,जब खुद ही जिम्मेदार मिल बैठकर लूट खा रहे है ।

पीड़ित उज्ज्वला उपभोक्ताओं का विवरण :

जयापुर-
रानी देवी,बुधना देवी,ममता देवी, कुसुम देवी,बदामा देवी,सुरजी देवी,रेनू देवी,आरती देवी,उषा देवी,धन्नी देवी,नगीना देवी
रखौना –
पुष्पा देवी,सोनी देवी,निर्मला देवी
बेबी देवी, राजकुमारी देवी
सीमा देवी, गीता देवी,गुड्डी देवी
चित्तापुर –
गेना देवी,पूनम देवी,रेखा देवी, रागिनी मिश्रा पति विपिन मिश्रा
चन्दा देवी
भिखारीपुर –
मुन्नी देवी,रेश्मा देवी, सोनी देवी,सरिता देवी, उर्मिला देवी,सुदामा देवी, शान्ति देवी,पिन्की चौबे
जानवी सिंह,गीता देवी
गोतवा –
सरोजा देवी,इन्द्रावती देवी,सरीता देवी, उर्मिला देवी,आरती देवी , गुंजन देवी,सरिता देवी,उषा देवी, गीता देवी, फुल कुमारी देवी,रिंकी देवी,रेखा देवी,शुसीला देवी,मन्जू देवी,संगीता देवी, रूक्मिणी देवी , बिन्दु देवी,सीता देवी, सरोजा देवी,धनरा देवी,गीता देवी,श्यामदेई देवी,निशा देवी,सुनिता देवी, राजकुमारी
महगांव-
लीला देवी,रमपत्ती देवी,सोनी देवी,सुशीला देवी, शान्ति देवी,खरपत्ती देवी,श्यामदुलारी देवी,हन्शा देवी ,श्यामपारी देवी
चन्दापुर –
हिरावती देवी , फूलपत्ती देवी, माधुरी देवी,सीमा देवी,हिरावती देवी,सुषमा देवी,ज्योति देवी,सोनी, उजाला देवी,शीला देवी,इसरावती देवी,सीता देवी,सोनी, सन्ध्या देवी,आशा देवी संजू देवी, पार्वती देवी
इटही- शीला देवी, राजकुमारी, मन्जू देवी, राजकुमारी, मन्जू,किरन देवी,मधु देवी,ओसा देवी, सुनिता देवी, सुनिता देवी,नीतू देवी,सुमन देवी, कुसुम देवी,रीना देवी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *