जब बीजेपी सरकार जनमुद्दों पर फेल हो जाती है, तब वह साम्प्रदायिक मसले को भुनाती है !

Cover Story अन्तर्द्वन्द

कोरोना काल में फेल हुई तो जमाती मुद्दे को हवा दी, आज मंदी महंगाई बेरोजगारी को दबाने के लिये पुनः मुस्लिम निशाने पर

मुस्लिमों से नफरत की बुनियाद पर सत्ता दल हो रहा आबाद, फायदा उस दल का नुक़सान देश की आम अवाम का

जमाल खान पत्रकार

मुल्क में दो घटनाएं एक साथ एक गति से हो रही हैं। पेट्रोलियम और रोज़मर्रा के सामान की दर लगातार आसमान छू रही हैं और तो दूसरी तरफ़ मुस्लिम नफ़रत बेतहाशा बढ़ रही है। यह आधुनिक भारतीय राजनीति का दूसरा प्रयोग है। पहली बार जब कोरोना में देश भर के लोगों को वायरस के साथ साथ लॉकडाउन में मरने के लिए छोड़ दिया गया था तब भी मुस्लिम नफ़रत ने ही सरकार की दुर्गत को संभाला था और सुप्रीम कोर्ट तक को कहना पड़ा था कि मीडिया ने जिस तरह तबलीग़ी जमात के मसले को कवर किया वह उचित नहीं था। पता चलता है जब जब सरकार संकट में आती है, ठीक उसी समय मुस्लिम नफ़रत भरे कार्यक्रम और उन पर सड़क छाप बहसें चौतरफ़ा बिछ जाती हैं। जो हिन्दुस्तानी अवाम के नासूर से बह रही पीप को एक सफ़ेद चादर की तरह ढक देती है। ताज़ा मामले गुजरात और दिल्ली और यूपी के हैं।

हाल ही में देश की राजधानी दिल्ली और दिल्ली में प्रधानमंत्री की कुर्सी संभाल रहे नरेन्द्र मोदी के गृह राज्य गुजरात में ऐसे आयोजन हुए हैं जिसमें देश के सांप्रदायिक सौहार्द को चुनौती दी गई है। दिल्ली के बुराड़ी में आयोजित “हिंदू महापंचायत” में मुस्लिम-विरोधी नारे लगाए गए और विवादित महंत यतिनरिसंहानंद ने कहा कि हिन्दुओं को हथियार उठाने चाहिए और यह भी कि अगर कोई मुसलमान प्रधानमंत्री बन गया तो इससे धर्मपरिवर्तन का खतरा बढ़ेगा। इसी महापंचायत में सुदर्शन टीवी के मुखिया सुरेश चव्हाणके ने भी अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ जहर उगला।

इस महापंचायत को आयोजित करने वाले भी ज्यादातर वही लोग थे जिन्होंने बीते वर्ष दिल्ली के जंतर-मंतर पर मुस्लिम विरोधी नारे लगाए थे। यह पंचायत दिल्ली पुलिस की अनुमति के बिना की गई, इस आयोजन के बाद में दिल्ली पुलिस ने एक ट्वीट कर अपनी ‘ज़िम्मेदारी’ भी अदा कर ली।

अब गुजरात का रुख करते हैं। गुजरात के रानिप इलाक़े में करीब दो हफ्ते पहले एएचपी का ‘त्रिशूल दीक्षा’ (त्रिशूल वितरण) कार्यक्रम आयोजित हुआ। इस आयोजन में प्रवीण तोगड़िया की मौजूदगी में अल्पसंख्यक समुदाय के खिलाफ आपत्तिजनक भाषण दिया गया। जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ। वायरल वीडियो में राष्ट्रीय बजरंग दल के राष्ट्रीय अध्यक्ष मनोज कुमार को मुसलमानो के ख़िलाफ ज़हर उगलते हुए सुना जा सकता है। मनोज कुमार ने मुस्लिम महिलाओं, युवतियों पर भी अमर्यादित टिप्पणियां की हैं। मनोज कह रहे हैं कि “कटुवे (मुस्लिम पुरुष), सलमा (मुस्लिम महिला) अपने बजरंगी (हिंदुओं) का इंतज़ार कर रही हैं। मुस्लिम पुरुष उनके लिए पर्याप्त नहीं हैं, वह लव-कुश को जन्म देना चाहती है”। फिर उसने हिंसा का आह्वान करते हुए कहा “जब से हिन्दू जाग गया है, मुजफ्फरनगर हुआ है… शिवाजी की तरह, हम इस त्रिशूल दीक्षा को अली (मुस्लिम) को छुरा घोंपने के लिए ले रहे हैं।” बाद में मनोज कुमार कहते हैं, विवेक अग्निहोत्री की कश्मीर फाइल्स मूवी की तरह, उन्हें गुजरात (2002) पर भी एक फिल्म बनानी चाहिए। “क्या सीन था! बजरंगबली त्रिशूल लेकर उनकी छाती पर बैठे थे।” ऐसी हिंसक प्रवृत्ति के लोग किस समाज के रक्षक होंगे, जिनकी खुद की नीयत ही भक्षक बनने की रहती हो?

ऐसा ही एक मामला उत्तर प्रदेश के सीतापुर के ख़ैराबाद का जहां एक कथित महंत ने 2 अप्रैल को एक जुलूस निकालकर मुस्लिम महिलाओं का बलात्कार करने की धमकी दी। बजरंग मुनी इस कथित महंत का असली नाम अनुपम मिश्र है। दो अप्रैल को खैराबाद में पुलिस की मौजूदगी में इसने कहा ‘‘मैं आपको पूरे प्यार से यह कह रहा हूं कि अगर खैराबाद में एक भी हिंदू लड़की को आपके द्वारा छेड़ा गया, तो मैं आपकी बेटी और बहू को आपके घर से बाहर लाऊंगा और उसके साथ बलात्कार करूंगा।” ऐसी मानसिकता रखने वाला कोई शख्स महंत भी हो सकता है यह अपने आपमें ही हास्यपद है। हालांकि इस मामले में राष्ट्रीय महिला आयोग ने भी संज्ञान लिया है, और पुलिस की मौजूदगी में इस तरह की अमर्यादित टिप्पणी पर भी हैरानी ज़ाहिर की है।

आपने नफ़रत के इन उदाहरणों को देखा, गुजरात से लेकर दिल्ली और दिल्ली से लेकर यूपी तक में एक ही पैटर्न पर नफ़रत फैलाने का खेल चल रहा है। यही वह खेल है जो पूरे देश में चलने वाले महंगाई के खेल से जनता का ध्यान पूरी तरह हटा रहा है। कौन बताए कि विश्व में सबसे महंगा रसोई गैस सिलेंडर भारत में बिक रहा है। पेट्रोल के मामले में भारत दुनिया में तीसरे नंबर पर है, वहीं डीजल के मामले में भारत विश्व में आठवें नंबर पर है। एक तरफ सत्ताधारी दल के अनुषांगिक संगठनों के लोग समाज में नफ़रत का प्रवाह कर रहे हैं, दूसरी तरफ सरकार बड़ी चालाकी से आम आदमी की जेब पर डाका डाल रही है।

श्रीलंका में सत्ता में बने रहने के लिए तमिलों के खिलाफ नफ़रत का यह तमाशा राजपक्षे ने भी खेला था। आज वहां की जनता गैस, तेल और राशन के लिए लाइन में लगी है।ऐसी उम्मीद करनी चाहिए हमारा प्यारा मुल्क भारत श्रीलंका नहीं बनेगा, मगर बन गया तो..?।

-अचूक संघर्ष-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *